Agra University: विश्वविद्यालय का एक और गड़बड़झाला, एक दिन में ही परीक्षा केंद्र बदल डाला

765Views
जब से विश्वविद्यालय की मुख्य परीक्षाएं शुरू हुई हैं, तब से कई गड़बड़ियां सामने आ चुकी हैं। कहीं पेपर आउट हुआ तो कहीं सामूहिक नकल पकड़ी गई। इन मामलों में विश्वविद्यालय प्रशासन ने कई परीक्षा केंद्रों पर कार्रवाई भी की है।

आगरा के डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय प्रशासन का मुख्य परीक्षा के दौरान एक और गड़बड़झाला सामने आया है। सीसीटीवी कैमरे के माध्यम से सामूहिक नकल पकड़े जाने पर डीआरजी महाविद्यालय, धनीपुर, अलीगढ़ (कोड 530) परीक्षा केंद्र को निरस्त करके जिस कॉलेज को केंद्र बनाया गया था, उसे एक दिन बाद ही बदल दिया गया। उसकी जगह दूसरा केंद्र बना दिया गया। डीआरजी महाविद्यालय की आपत्ति पर ही यह कदम उठाया गया।

विश्वविद्यालय की मुख्य परीक्षा में 13 मई को कंट्रोल रूम ने विश्वविद्यालय के अधिकारियों को मां जानकी देवी महाविद्यालय, हाथरस (कोड 695) और श्रीरामस्वरूप गंगा प्रसाद कॉलेज, एटा (कोड 940) में सामूहिक नकल पकड़े जाने की रिपोर्ट दी थी। दोनों केंद्रों की संबंधित पाली की परीक्षा और परीक्षा केंद्र को निरस्त करने के आदेश किए गए। 14 मई को श्रीरामस्वरूप गंगा प्रसाद कॉलेज, एटा (कोड 940) का नाम कार्रवाई से हटा दिया गया।

ट्रोल रूम ने रिपोर्ट दी कि गलती से इस केंद्र का नाम चला गया था। नकल की वीडियो क्लिप डीआरजी महाविद्यालय, अलीगढ़ का बताया गया और कंट्रोल रूम ने लिखित रिपोर्ट अधिकारियों को दी। विश्वविद्यालय प्रशासन ने श्रीरामस्वरूप गंगा प्रसाद कॉलेज के खिलाफ की गई कार्रवाई निरस्त की गई। डीआरजी महाविद्यालय, अलीगढ़ के खिलाफ कोई कार्रवाई करने से पहले वीडियो की अधिकारियों ने जांच की।

18 मई को विश्वविद्यालय प्रशासन ने डीआरजी महाविद्यालय परीक्षा केंद्र को निरस्त कर दिया। केंद्र पर पंडित लक्ष्मी नारायण मेमोरियल महाविद्यालय, टप्पल और डीआरजी महाविद्यालय की छात्राएं परीक्षा दे रही थीं। परिवर्तित केंद्र बोहरे मोहनलाल मेमोरियल महाविद्यालय, जट्टारी को बना दिया गया। 19 मई को विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से बोहरे मोहनलाल मेमोरियल महाविद्यालय केंद्र को हटाकर उसकी जगह कृष्णा महाविद्यालय, सुजानपुर खैर को परीक्षा केंद्र बना दिया गया।
गूगल मैप के अनुसार डीआरजी महाविद्यालय से बोहरे मोहनलाल मेमोरियल महाविद्यालय की दूरी महज 2.8 किलोमीटर है। उसे हटाकर जो केंद्र बाद में बनाया गया (कृष्णा महाविद्यालय, सुजानपुर) की दूरी 17.5 किलोमीटर है। डीआरजी महाविद्यालय की छात्राओं को परीक्षा देने के लिए अब 14.7 किलोमीटर अधिक दूर जाना पड़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here