International Museum Day: भाजपा सरकार ने आगरा के म्यूजियम का छत्रपति शिवाजी किया नाम, पर अब भी अधूरा है काम

900Views

आगरा

आगरा में ठीक छह साल पहले ताजमहल के पूर्वी गेट पर बिजली घर की जमीन पर मुगल म्यूजियम बनाने की शुरुआत हुई। काम दिसंबर, 2017 में पूरा होना था, लेकिन अब तक इसका निर्माण पूरा नहीं हुआ। सपा सरकार की मुगल म्यूजियम की योजना को भाजपा सरकार ने बजट नहीं दिया। साल 2020 में मुगल म्यूजियम का नाम बदलकर छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर रखा गया, लेकिन म्यूजियम का निर्माण फिर भी शुरू नहीं हो सका। इस बीच 130 करोड़ रुपये की लागत जरूर बढ़कर 186 करोड़ रुपये हो गई है। अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस पर ताजनगरी इस म्यूजियम केपूरे होने का इंतजार कर रही है।

प्रदेश सरकार ने ताजमहल से महज 1300 मीटर दूर 5.9 एकड़ जमीन पर बनाए जा रहे म्यूजियम को स्टेट ऑफ द आर्ट का दर्जा दिया था। इसके निर्माण पर अब तक 99 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं। प्रीकॉस्ट तकनीक पर उत्तर प्रदेश का यह पहला सरकारी प्रोजेक्ट था, जिसे दिसंबर, 2017 तक पूरा कर लिया जाना था लेकिन सरकार बदलते ही बजट न मिलने के कारण टाटा प्रोजेक्ट्स ने काम छोड़ दिया।
सितंबर 2020 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने म्यूजियम का नाम बदलकर छत्रपति शिवाजी म्यूजियम कर दिया। जनवरी, 2020 से ही यहां काम बंद पड़ा है। राजकीय निर्माण निगम के परियोजना प्रबंधक दिलीप सिंह ने बताया कि प्रोजेक्ट पूरा करने के शासन को पत्र भेजे गए हैं। बजट की उपलब्धता के साथ कार्य पूरा होता जाएगा।
म्यूजियम में मार्बल फ्लोरिंग, वाल क्लेडिंग, साइट डेवलपमेंट, विद्युतीकरण, फायर फाइटिंग सिस्टम व लिफ्ट का काम नहीं हुआ है। तीन मंजिला म्यूजियम का ढांचा बनकर तैयार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here