Balidan Diwas: शहीद भगत सिंह और आगरा का कनेक्‍शन, दिल्‍ली असेंबली में फोड़ा गया बम जहां बना, वो मकान आज भी है यहां

900Views

आगरा

देश की आजादी के लिए मर मिटने वालों में शुमार शहीद भगत सिंह को लोग पंजाब से जोड़ते हैं, लेकिन उनका आगरा से भी बड़ा कनेक्‍शन रहा था। शहीद भगत सिंह का आगरा प्रवास पाठ्यक्रम में शामिल होने की मांग एक बार फिर से उठी है। बुधवार 23 मार्च को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव का बलिदान दिवस है। सरदार भगत सिंह शहीद स्मारक समिति के सचिव राजवीर सिंह ने बताया कि भगत सिंह व उनके साथी क्रांतिकारियों को पाठ्यक्रम में शामिल करने के लिए समिति सरकार को पत्र लिखेगी।

अंग्रेजी हुकुमत को नींद से जगाने के लिए भगत सिंह और उनके साथी द्वारा आठ अप्रैल 1929 काे दिल्ली असेंबली में फोड़ गया बम आगरा में बनाया गया था। इस बात का जिक्र शहीद भगत सिंह स्मारक समिति द्वारा मुद्रित कराई गई पुस्तक आगरा मंडल के देशभक्त शहीदों पर स्मारिका में मिलता है। हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी ने आगरा को अपना केंद्र बनाया था। चंद्रशेखर आजाद,सरदार भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव यहां नाम बदलकर रहे थे।

सरदार भगत सिंह शहीद स्मारक समिति के सचिव राजवीर सिंह के अनुसार आगरा 1926 से 1929 तक क्रांतिकारियों का प्रमुख केंद्र रहा था। वह छदम नामों से यहां रहे थे। इस दौरान चंद्रशेखर आजाद ने बलराज, भगत सिंह ने रणजीत राजगुरु ने रघुनाथ व बटुकेश्वर दत्त ने मोहन बनकर यहां अज्ञातवास काटा था। लाहौर कांड के बाद भगत सिंह और उनके साथियों ने आगरा के नूरी गेट में भरतपुर के भग्गीमल महाराज के मकान में पांच रूपये महीने किराए पर कमरा लिया था। वह यहां पर छात्र बनकर रहे थेे। जिसे वर्ष 1957 में नूरी गेट के रहने वाले परसादी लाल ने भग्गीमल से खरीद लिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here