बजरंगी भाईजान से लेकर बरफी तक, बॉलीवुड सिंगर पापोन ने गाने सुनाकर ताज महोत्‍सव में बांधा समां

645Views

आगरा
ताज महोत्सव में पहले दिन प्रस्तुति आए बालीवुड सिंगर पापोन के सुरों पर शिल्पग्राम झूम उठा। रात करीब 10 बजे मंच पर पापोन के पहुंचते ही दर्शक तालियां और सीटियां बजाने लगे। पापोन भी गाते-गाते दर्शकों के बीच पहुंच गए। पापाेन अपने निर्धारित समय से करीब दो घंटे की देरी से मंच पर पहुंचे। उन्होंने शुरुआत फिल्म “बजरंगी भाईजान” के गीत “तू जाे मिला…’ से की। “हमारी अधूरी कहानी’ के गीत “ए हमनवा मुझे अपना बना ले…’, फिल्म “बरफी’ का गाना “क्यों न हम तुम चलें टेढ़े-मेढ़े…’, “तेरे बिन नहीं लगदा दिल मेरा ढोलना…’ सुनाकर पापोन ने रंग जमाया।

उन्होंने फिल्म “दम लगा के हइशा’ का गाना “मोह-मोह के धागे…’ गाना शुरू किया तो दीवाने हुए दर्शक उनके सुर में सुर मिलाने लगे। पापोन भी मंच से नीचे उतर आए और दर्शक दीर्घा में पहुंचकर गाने लगे। किशोर कुमार के गाने “एक अजनबी हसीना से मुलाकात हो गई…’ और “कोरा कागज था ये मन मेरा…’ समेत कई गाने उन्होंने गाए। सुल्तान फिल्म का गाना “बुलैया…’ सुनाया तो दर्शक झूम उठे।

गजल गायक सुधीर नारायन, अरुण सक्सेना आदि मौजूद रहे।
बालीवुड सिंगर पापोन ने दैनिक जागरण से वार्ता में कहा कि आज युवाओं के पास संगीत सीखने के कई माध्यम हैं। युवा इंटरनेट के माध्यम से संगीत सीखें, लेकिन जल्दबाजी नहीं करें। रियाज व अभ्यास में कोताही न बरतें।

शिल्पग्राम स्थित ग्रीन रूम में वार्ता करते हुए पापोन ने रियलिटी शोज के बारे में कहा कि यह युवाओं के लिए फायदेमंद भी हैं और नुकसानदायक भी हैं। युवाओं को रियलिटी शोज से एक्सपोजर जरूर मिलता है, लेकिन अधिकांश आगे नहीं जा पाते हैं। लंबी दूरी तक जाना है तो उन्हें कड़ा परिश्रम व रियाज करना होगा। ताज महोत्सव में प्रस्तुति के सवाल पर उन्होंने कहा कि यहां आकर अच्छा लग रहा है। पहले भी वह यहां आ चुके हैं। फिल्म “कश्मीर फाइल्स’ को लेकर देश में बने माहौल के सवाल पर पापोन ने कहा कि वह कुमाऊं से सीधे आगरा आ रहे हैं। उन्होंने फिल्म नहीं देखी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here