जाड़े की सुबह…

4.0kViews

धूप से भरा मन।
कुहासे के भीतर समाया ।।

सुबह की गली में।
किसने गले से लगाया।।

भीगी है सड़क अब धूप में ।
साँसे भरती गली की तरह ।।

नदी के किनारे  घाट के नीचे ।
बहते पानी की महक।।
 
कहाँ सुनायी देती।
चिड़ियों की चहक शायद कोई कसक . . .

राजीव कुमार झा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here