कभी शादी नहीं करना चाहती थीं Vidya Balan, सिद्धार्थ रॉय कपूर से मिलने के बाद बदला मन

- Advertisement -

मुंबई

पिछले कुछ अर्से से गंभीर भूमिकाओं में नजर आईं विद्या बालन अब दर्शकों से सिर्फ हंसी बांटना चाहती हैं। सिनेमाघरों में आज प्रदर्शित होने वाली रोमांटिक कामेडी फिल्म ‘दो और दो प्यार’ में वह नजर आएंगी।

अच्छा लगता है कि मैंने जब करियर की शुरुआत की तो एक ही तरह की फिल्में बन रही थीं। फिर धीरे-धीरे महिला केंद्रित कहानियों का सिलसिला आरंभ हुआ। मैं सही जगह सही वक्त पर थी। उसका बहुत लाभ हुआ। इस तरह महिला प्रधान फिल्मों के साथ जुड़ गई। उनकी वजह से बहुत प्यार बटोरा और फिल्मों  में तब्दीली भी आई, खास तौर पर महिला प्रधान फिल्मों में। अधिक संख्या में महिला प्रधान फिल्में बनने लगी हैं और बॉक्स ऑफिस पर चलने भी लगी हैं। इन सब बातों की मुझे बहुत खुशी है। इसमें हम सबका योगदान है।

यहां के लोगों को लगता है कि दो और दो चार हो सकते हैं, लेकिन यहां पर प्यार है, यही गुत्थी सुलझा रहे हैं। मजेदार रोमांटिक कॉमेडी फिल्म है। रोमांस है, मस्ती भी है इसमें। इस वजह से यह फिल्म मुझे बहुत अच्छी लगी। इस वक्त मैं बस हंसना-हंसाना चाहती हूं। दर्शकों के लिए भी यही सही है, क्योंकि मैं बतौर दर्शक भी बहुत थक गई थी। पक गई थी उसी तरह का कंटेंट देख देखकर। इतनी मारधाड़। इतना क्लेश (हंसती हैं)। अब थोड़ा सा रोमांस और प्यार होना चाहिए।

मेरा तो सही रहा है (जोर का ठहाका मारती हैं)। मैं खुशकिस्मत रही। वास्तव में मैंने कोई गणित नहीं बिठाया। जब आप गणित नहीं बिठाते तभी चीजें सही चलती हैं। अगर हम योजना बनाकर चलें कि किसी इंसान में ये गुण होने चाहिए, फिर हमारी पटेगी तब शायद आपको निराशा हो। मैंने तो सोचा था कि कभी शादी नहीं करूंगी, क्योंकि मैंने करियर इतना देरी से शुरू किया। मुझे लगता था इतना कुछ करना है, लेकिन सिद्धार्थ ने आकर वो इरादा बदल दिया।

मेरा तो अच्छा नहीं था। शुरू होने से पहले ही खत्म हो गया। उस समय मैं 14 या 15 साल की थी। मुझे उस लड़के की आवाज बहुत अच्छी लगती थी। एक दिन मैंने उसे गुनगुनाते हुए सुना, फिर मैं वहां से भाग गई (ठहाका मारती हैं)।

वास्तव में यह रीमेक नहीं है। नींव वही है पर कहानी काफी अलग है उससे। जो दिशा शीर्षा गुहा (लेखक और निर्देशक) ने स्क्रिप्ट दी, वो बहुत अलग थी। यह रोमांटिक कामेडी है। मूल फिल्म थोड़ा गंभीर थी। अभी तो आप किसी को सीधे मैसेज भेजकर मन की बात कह सकते हैं। जहां तक लव स्टोरी की बात है तो जीवन में लव स्टोरी खत्म हो रही हैं। समाज में जो होता है, हमारा सिनेमा उसी को दर्शाता है। आजकल हम सब बहुत अधीर हो गए हैं। हम इंस्टाग्राम पर किसी का प्रोफाइल चेक करते हैं। अगर वो पसंद आए तो उसे संदेश भेजते हैं। एकाध बार मैसेज पर बात कर लेते हैं। अगर अच्छा लगा तो ठीक है वरना डिलीट, ब्लाक। किसी दूसरे को जानने का मौका ही नहीं दे रहे हैं।

शादी में एक वक्त के बाद दंपती इतने सहज हो जाते हैं कि वे एक-दूसरे को हल्के में लेने लगते हैं। उस वजह से वे साथ अधिक समय नहीं बिताते। एक-दूसरे में अधिक रुचि नहीं लेते। उसका असर रिश्तों पर पड़ता ही है। दूरियां बढ़ती जाती हैं। ये सब बातें आपको फिल्म में दिखाई देंगी।

अगर किसी से प्रेम संबंध है तो माफ करने में दिक्कत होती है। (धीरे से बोलते हुए) मैं शायद नहीं कर पाऊंगी। उम्मीद करती हूं कि इसकी आवश्यकता ही न पड़े।

झगड़ा शांत करने में सिद्धार्थ। (शर्माते हुए) मनाने के उनके अपने तरीके हैं।

वो सबसे आवश्यक है, क्योंकि सरकार देश चलाती है। अगर आप देश में कोई भी परिवर्तन लाना चाहते हैं तो वह आप से शुरू होना चाहिए। आपका वोट सबसे अहम योगदान है उसकी तरफ। वोट जरूर कीजिए।

चुनाव में वोट डालना बड़ी जिम्मेदारी है, इसका एहसास पापा ने कराया। मैं 18 वर्ष की हुई थी उस वर्ष चुनाव नहीं हुए थे। जब 20 वर्ष की हुई तब चुनाव हुए। मुझे तो वह छुट्टी वाला दिन लग रहा था। मैंने कहा कि मुझे वोट नहीं करना है। तब पापा ने कहा कि अगर तुम्हें आगे जाकर देश के बारे में कुछ भी कहना हो या सरकार के बारे में कोई भी राय रखनी हो तो तुम वो हक खो दोगी अगर तुमने वोट नहीं किया। वोट करने के बाद ही तुम इसकी हकदार बनोगी। वो बात मुझे छू गई। मैंने वोट दिया। उसकी अहमियत का अहसास हुआ। जब अंगुली पर वो काली स्याही लगी तो मैं उसे देखती रह गई। कितने दिन तक वो निशान रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here