आगरा: हिरासत में सफाईकर्मी की मौत के मामले में पुलिस को क्लीन चिट, फाइनल रिपोर्ट लगी

1.1kViews

आगरा

आगरा के थाना जगदीशपुरा के मालखाने से 25 लाख रुपये की चोरी के मामले में हिरासत में लिए गए सफाईकर्मी अरुण नरवार की मौत के केस में पुलिस को क्लीन चिट मिल गई। मामले की जांच कासगंज पुलिस ने की थी। इसमें ऐसा कोई साक्ष्य नहीं मिला, जिसमें हिरासत में पिटाई की पुष्टि हुई हो। इस पर हत्या के मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगा दी गई।

17 अक्तूबर 2021 को थाना जगदीशपुरा के मालखाने से 25 लाख रुपये की चोरी का मामला सामने आया था। रुपये बक्से में रखे थे। बक्सा खुला मिलने पर जानकारी हो सकी थी। इस मामले में मुकदमा दर्ज किया गया। पुलिस ने शक के आधार पर 19 अक्तूबर 2021 को थाना के अस्थायी सफाईकर्मी अरुण नरवार को ताजगंज क्षेत्र से हिरासत में लिया था। वह लोहामंडी का रहने वाला था। उसे थाने लाया गया था। पुलिस ने उनसे अवधपुरी पुलिस चौकी में पूछताछ की थी।

20 अक्तूबर 2021 की सुबह तबियत बिगड़ने पर पुलिसकर्मी अस्पताल ले गए थे, जहां अरुण की मौत हो गई थी। परिजनों ने पुलिसकर्मियों की पिटाई से मौत का आरोप लगाया था। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया था। इसमें मौत की वजह हृदयाघात से होना आया था।

साथ ही रिपोर्ट में शरीर पर चार जगह चोट होना भी आया था। नितंब पर चोट के दो नीले निशान और पैरों में खरोंच थीं। मामले में मृतक के भाई सोनू की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। इसमें पुलिसकर्मियों पर कड़ाई और बदसलूकी से पूछताछ के कारण मौत के आरोप लगाए गए थे।
एसपी कासगंज बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया कि विवेचक निरीक्षक ओमप्रकाश सिंह ने परिजनों के बयान लिए थे। उन्होंने शपथपत्र दिए थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर विशेषज्ञों की राय ली गई। इसमें ऐसी कोई चोट अरुण के शरीर पर नहीं थी, जिससे मौत हो जाए। हृदयाघात से मौत होना ही पाया गया। पिटाई से मौत के कोई साक्ष्य नहीं मिले। इस पर केस में हाल में साक्ष्यों के आधार पर फाइनल रिपोर्ट लगा दी गई है।
तत्कालीन एसएसपी मुनिराज जी ने थाने के मालखाने से चोरी के मामले में थाना प्रभारी निरीक्षक अनूप कुमार तिवारी, रात्रि अफसर एसआई रामनिवास, आरक्षी जितेंद्र सिंह, सुखवीर सिंह, हेड मोहर्रिर प्रताप भान सिंह और महिला सिपाही साजदा को निलंबित किया था। वहीं सफाईकर्मी की मौत के मामले में अपराध खुफिया शाखा के प्रभारी निरीक्षक आनंद कुमार साही, एसआई योगेंद्र कुमार, सिपाही महेंद्र, सत्यम और रूपेश को निलंबित किया था।
हिरासत में मौत के मामले में दर्ज मुकदमे की विवेचना अलीगढ़ परिक्षेत्र स्थानांतरित की गई थी। आईजी अलीगढ़ ने विवेचना कासगंज भेजी थी। एसपी कासगंज बोत्रे रोहन प्रमोद ने विवेचना तत्कालीन निरीक्षक थाना ढोलना ओपी सिंह को दी थी। उन्होंने परिजनों के बयान दर्ज किए थे। घटनास्थल का निरीक्षण भी किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here